एसकेओ (नॉन पीडीएस मिट्टी तेल) (पुरालेख)

*** यह 16 अप्रैल 2015 तक मान्य था ***

सामानान्तर मार्केटियर्स को एसकेओ (नॉन पीडीएस) की आपूर्ति के लिए मार्गदर्शंन

पीडीएफ संस्करण को डाउनलोड करें (25KB) PDF File पीडीएफ फाइल जो नई विंडों में खुलती है। | देखें पीडीएस केरोसीन

1. सामान्य आवश्यकताएँ

  1. समानान्तर मार्केटियर्स , एसकेओ (नॉन पीडीएस) की आपूर्ति या तो नियार्त के माध्यम से या फिर स्टॉक होल्डर को, सामानान्तर मार्केटियर्स के लिए बनाई गई योजना, एमओपी व एनजी की अधिसूचना क्रमांक जीएसआर584 (ई), दिनांक 19.06.1995, जीएसआर509 (ई), दिनांक 9.6.1995 के अंतर्गत दी गई आवश्यकताओं को पूर्ण करना होगा।
  2. जीएसआर 510 (ई), दिनांक 19.6.1995, जीएसआर 638 (ई) दिनांक 21.10.1998 और सरकार (केंद्र/राज्य) से संबंधित अन्य वैधानिक प्रावधान भी विचाराधीन हैं।
  3. पैरलल मार्केटियर्स को एसकेओ (नॉन पीडीएस) के लिए पैरलल मार्केटियर्स के लिए बनी योजना के तहत आवश्यक दस्तावेज़ और ऑइल कंपनी के द्वारा इस संबंध में मांगे गए आवश्यक दस्तावेज़ों को भी जमा करना चाहिए। पैरलल मार्केटियर्स को अनुलग्नक-1बाहरी वेबसाइट जो एक नई विंडों में खुलती हैं। के अनुरूप ही जानकारियाँ जमा करनी चाहिए।
  4. राजपत्र की अधिसूचना क्रमांक जीएसआर405 (ई) दिनांक 6.7.2006 के तहत एसकेओ के नियंत्रण के आदेश में संशोधन किया गया है। और पैरेलल मार्केटियर्स को एसकेओ (नॉन पीडीएस) की पूर्ति या तो निर्यात द्वारा या फिर देशी स्टॉकिस्टों से करने की आज्ञा मिल गई है।
  5. पैरलर मार्केटियर्स को अलग- अलग राज्यों के द्वारा तैयार की गई दिशा निर्देशों का पालन करना और ऑइल कंपनी को आपूर्ति करते हुंए अंतर्राज्यीय स्तर पर एसकेओ (नॉन पीडीएस) पाना होगा।

2. देशी स्टॉकिस्टों से एसकेओ (नॉन पीडीएस) की आपूर्ति

  1. पैरलल मार्केटियर्स को सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनियों द्वारा प्रदान किए गए, एक निश्चित अवधि के लिए एक अनुबंध पर अलग हस्ताक्षर करना चाहिए।
  2. पैरलल मार्केटियर्स के पास निम्नलिखित होना चाहिए
    1. सक्षम प्राधिकारी द्वारा जारी किया गया भण्डारण का वैध लाइसेंस जहाँ एसकेओ (नाम् पीडीएस) का भंडारण करना है।
    2. बिक्री कर का पंजीयन
    3. पैरलल मार्केटियर्स को व्यापार संबंधी सरकार (केंद्र/राज्य) द्वारा अन्य आवश्यक लाइसेंस/पंजीयन प्रमाणपत्र
    4. पैरलल मार्केटियर्स को इस योजना के तहत प्राप्त एसकेओं (नॉन पीडीएस) के भंडारण्, वितरण और विपणन संबंधी अपनी व्यापार योजना को जि़ले के कलेक्टर को लिखित रूप में सूचित करना चाहिए।
  3. पैरलल मार्केटियर्स डिपों/टर्मिनल में आवश्यक मात्रा में उत्पाद मांगाने के लिए डिमांड ड्रॅफ्ट द्वारा ऑइल कंपनी को भुगतान करना होगा।
  4. पैरलल मार्केटियर्स को ऑइल के ऐसा परिवहन जिसके पास वैध लाइसेंस, वज़न, और माप का प्रमाणपत्र, रोड परमिट आदि हो उसकी व्यवस्था बनाना होगा। आपूर्ति एक्स- एमआई (मेन इन्स्टालेशन) के आधार पर होगी।
  5. नॉन पीडीएस एसकेओं के ग्राहकों को लागू दर पर केवल अग्रिम भुगतान लेकर ही आपूर्ति करना होगा।
  6. बिल केवल पैरलल मार्केटियर्स के नाम पर ही बनाया जाएगा।
  7. आबकारी विभाग में विधिवत पंजीकृत पैरलल मार्केटियर को ही आवश्यकता पड़ने पर कैनवेट-एबल बिल दिया जाएगा।

3. आयतित स्रोतों से एसकेओ (नॉन पीडीएस) की आपूर्ति:

  1. पैरलल मार्केटियर को एसकेओ (नॉन पीडीएस) की मांग के मांगपत्र प्रस्तुत किए जाने समय ही पूरी आपूर्ति देनी चाहिए। ताकि आपूर्ति के समय यह सोचा जा सके कि आपूर्ति देशी स्टॉक से करनी है या फिर आयतित स्टॉक से।
  2. पैरलल मार्केटियर को एसकेओ (नॉन पीडीएस) की मांग के लिए आवेदन करते समय, पार्सल का आकार, भंडारण की सुविधा की पुष्टि, आपूर्ति का समय, स्थान आदि का विवरण भी देना चाहिए।
  3. पैरलल मार्केटियर के पास उपलब्ध सुविधाएँ जैसेः टैंकर, पाइपलाइन, जहाज को खाली करने की सुविधा, आदि का भी विवरण दिया जाना चाहिए, क्योंकि ऑइल कंपनी द्वारा ऑइल खाली किए जाने के लिए कोई भी टैंकर या भंडारण सुविधा उपलब्ध नहीं कराई जाएगी।
  4. एसकेओ के स्रोत को आर्थिक आधार पर बनाने के लिए, पैरलल मार्केटियर और उसके सहयोगियों को लगभग 25 टीएमटी के आकार का पार्सल साइज़ या फिर ड्राफ्ट की राशि के अनुसार ही बनाना चाहिए। एसकेओ (नॉन पीडीएस) को हाई-सी-सेल्स के आधार पर ही बेचा जाना चाहिए।
  5. यदि एक पार्सल को एक से अधिक पैरलल मार्केटियर्स आयातित कर रहे हों तो उनमें से एक पैरलल मार्केटियर को उन सब का अग्रणी होना चाहिए। जिसके पास वैध पॉवर ऑफ एटॉर्नी हो और उसे ही अकेले ऑइल कंपनी से डील करना चाहिए। अगुआ पैरलल मार्केटियर को अपने सहयोगियो और कंपनी के मध्य संवाद स्थापित करना होगा और निर्णय लेना होगा।
  6. पैरलल मार्केटियर को सार्वजनिक क्षेत्र की ऑइल कंपनी द्वारा दिये गए एक निश्चित समय के अनुबंध पर हस्ताक्षर करना चाहिए।
  7. पैरलल मार्केटियर्स को आवेदन जमा करते समय 25,000 रू. प्रोसेसिंग फीस भी अदा करना होगा। यह राशि केवल वास्तविक आयात के समय ही समायोजित किया जाएगा।
  8. पैरलल मार्केटियर्स को ऑइल कंपनी के नाम पर किसी अनुसूचित बैंक द्वारा जारी किया हुआ एसकेओं (नॉन पीडीएस) के मूल्य की 110 प्रतिशत राशि का बैंक ड्राफ्ट ऑर्डरको भेजने के दिन में देना होगा। या आयातित करने के दिन देना होगा।
  9. सभी आयात को सीआईएफ के आधार पर की जानी चाहिए।
  10. सुविधा शुल्क उत्पाद की सीआईएफ मूल्य की 2.5 प्रतिशत की दर से लिया जाएगा।
  11. कस्टम की औपचारिकताएँ और कस्टम शुल्क का भुगतान पैरलल मार्केटियर द्वारा किया जाएगा।
  12. वारफेज का भुगतान पैरलल मार्केटियर द्वारा किया जाएगा।
  13. बंदरगाह के शुल्क का समायोजन विक्रेता द्वारा या कंटेनर के मालिक द्वारा किया जाएगा।
  14. डेमरेज शुल्क 500 रू. प्रति एमटी के हिसाब से अग्रिम के रूप में लिया जाएगा। पर अंतिम भुगतान के समय आपूर्तिकर्ता या कंटेनर के मालिक के द्वारा दावा किए गए वास्तविक डेमरेज का भुगतान करना होगा। कुल डेमरेज की गणना उपरोक्तानुसा होगी, कई पाटी/ कई पोर्ट डिस्चार्ज के मामले में डेमरेज शुल्क, बी/एल मात्रा के आधार पर पहले से तय किए गए दर के हिसाब से ही देय होगा। चाहे बी/एल धारक डेमरेज शुल्क को वहन करे अथवा नहीं।
  15. टैंकर/वेसेल को उतारे जाने वाले स्थान पर उनके रख-रखाव की जि़म्मेदारी पैरलल मार्केटियर्स की होगी।
  16. ऑइल उतारे जाने के स्थान पर ऑइल को खाली करने के लिए लगाए गए पाइप की जि़म्मेदारी भी पैरलल मार्केटियर्स की ही होगी। इसके लिए पैरलल मार्केटियर को उसके स्वयं के और ऑइल प्राप्त करने वाले टर्मिनल के बीच पहले से ही अनुबंध होना चाहिए।
  17. लोड की गई ऑइल की मात्रा (बी/एल) के अनुरूप ही भुगतान किया जाएगा। ऑइल कंपनी के द्वारा बीएल को हाई-सी-आधारित बिक्री के लिए पैरलल मार्केटियर ( आयातक) के पक्ष में समर्थन करना होगा।
  18. पैरलल माकेर्टियस को सरकार द्वारा समय-समय पर एसकेओ (नॉन पीडीएस) पर जारी नियामकों को मानना होगा।
  19. ऑइल कंपनी द्वारा डिपों में निम्नलिखित सीमित कारणों के लिए बोर्डिंग अधिकारी की तैनात करना होगा:
    1. वेसेल के मालिक और विक्रेता और साथ ही साथ पैरलल मार्केटियर के मध्य समन्वय होना चाहिये
    2. यदि डिस्चार्ज के पहले या दौरान विवाद की स्थिति उत्पन्न हो तो, पंपिंग को आरंभ करने व बंद करने से संबंधित दस्तावेज़, और डिस्चार्ज के समय प्रेशर लॉग दस्तावेज़ व अन्य कागज़ात प्रस्तुत करना चाहिए। इन दस्तावेज़ों की आवश्यकता आपूर्तिकर्ता को डेमरेज के दावे के समय भी होगी।
    3. बोर्डिंग अधिकारी को क्रेता की ओर से, डिस्चार्ज संबंधी सभी गतिविधियों के लिए गवाह के रूप में ही समझा जाना चाहिए।
  20. पैरलल मार्केटियर्स को संबंधित राज्य सरकार/रों को एसकेओ (नॉन पीडीएस) के आगामी आर्डर की पूर्ति करने से पहले, पिछली बार ऑइल कंपनी द्वारा भेजे गए ऑइल की प्राप्त मात्रा की पुष्टि प्रमाणपत्र को प्रस्तुत करना होगा।
  21. ऑइल उद्योग इन दिशानिर्देशों की, प्रत्येक 6 माह के बाद या पैरलल मोकेर्टियर्स को एसकेओ (नॉन पीडीएस) की आपूर्ति के वास्तविक अनुभवों के आधार पर, समीक्षा करेगा ।
  22. पैरलल मार्केटियर्स के निदेशक/साझेदार को कंपनी के लेटर हेड में विधिवत हस्ताक्षर किया हुआ एक पत्र देना होगा कि पैरलल मार्केटियर्स योजना के तहत दिया गया कैरोसिन के कोटे को असली उपभोक्ताओं को ही प्रदान किया गया है। और पैरलल मार्केटियर्स को ऐसा प्रत्र प्रत्येक सप्लाई के पहले देना होगा।

अनुसंलग्नक -1

पैरलल मार्केटियर्स के द्वारा आवेदन के साथ जमा किए जाने वाले विवरण

  • फर्म का संविधान
  • पंजीकुत कार्यालय
  • वर्तमान व्यापार का स्थान व पता
  • प्रमोटर्स/निदेशकों/साझेदारो/स्वयं स्वामी के नाम व पते
  • प्रमोटरों/निदेशकों/साझेदारों/स्व-स्वामी की पृष्ठभूमि और पूर्व की पूर्ण जानकारी
  • पैरलल मार्केटियर्स या उसके कंपनी समूहों के वर्तमान कार्य का विवरण
  • विगत तीन वर्षों के लेखा परीक्षण किए हुए खाते
  • पैरलल मार्केटियर्स के अपने अन्य कंपनी समूह में विगत तीन वर्षों कार्य निष्पादन
  • कैरोसीन के लिए विपणन योजना
  • कैरोसीन के स्रोत/रखरखाव/भंडारण की सभी स्थानों मे क्षमता की अधोसंरचना
  • आयात स्थान की पहचान
  • आयात पार्सल का प्रस्तावित आकार और आयात किए जाने वाले उत्पादों की मात्रा
  • (बंदरगाह/वैधानिक/राज्य सरकार/विस्फोटक वातावरण के मुख्य नियंत्रक/स्थानीय प्राधिकरण) आदि से प्राप्त लाइसेंस/अनुमोदन
  • क्रोसिन भंडारण सुविधा करौसिन के भंडारण की परिस्थिति/नियामक के कोड को सुनिश्चित करती है।
  • जहाज को खाली करने के लिए किराए के या स्वयं के टैंकरों के विवरण या अन्य अनुबंध (लीज़/स्वामित्व)
  • संगठन की संरचना का विवरण
  • केरोसिन नियंत्रण आदेश में उल्लेखित एजेंसी द्वारा जारी किये गए रेटिंग प्रमाणपत्र की प्रतिलिपि
  • पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय, नई दिल्ली को दिये जाने वाले प्रतिवेदन या सूचना की प्रतिलिपि
  • अन्य संबंधित विवरण
हिन्दी